सिद्ध अर्थात वो लोग जिन्होंने विज्ञान को जाना, समझा,शोध किया और फिर समाज को सिखाया। विज्ञान अर्थात वो विशेष ज्ञान जो ईश्वर क्या है, प्रकृति क्या है और हम कौन है इसको समझा सके । इतना ही नही सिद्धो ने इस विज्ञान मे हमें तमाम प्रयोग व विधियाँ दी अपना विकास करने की अपनी संभावनाएं बढाने की जिससे मनुष्य सत्य को समझ सके, अनुभव कर सके और निरंतर आगे बढ़ सके। सिद्धो ने योद्धा बनना सिखाया, कभी न हारना और बार बार उठना सिखाया इनकी जीवन गाथाएँ प्रेरणा से भर देती है। Siddh are real scientists

पर लोग हमसे पूछते है कि ये सब जान कर होगा क्या? ऐसे सभी प्रश्न उनको व्यर्थ लगते है कि सिद्ध कौन होते है, प्रमुख सिद्धो के नाम क्या है, उन्होंने किस प्रकार की खोजे की, किन विद्याओ को समाज मे सिखाया??

हमारा कलियुगी मन बस लगा रहता है लाभ ढूँढने मे,reasons ढूँढने मे, एक कदम भी नही चलना चाहता बिना लाभ जाने कि क्या मिलेगा, क्या होगा, क्यो करें? और हम इस प्रवृत्ति को कहते है we are logical !
हम आप सबको सतर्क करना चाहते है क्युकी ये logical होना नही है सिद्धो ने तो सदैव तर्क को विशेष स्थान दिया है परंतु ये तो व्यापार बुद्धि है,हम तो समर्थन दे रहे है तामसिक बुद्धि को।

हम तो यही पूछना चाहते है की आप अपने माता पिता को क्यों याद करते है? उनको याद करने से क्या मिलेगा?

हम तो यही बताना चाहते है कि सिद्धो को भी प्रतिदिन याद करिये हमारे साथ, एक बार जुड़कर तो देखिये उनके साथ भाव से,अपने अस्तित्व से और आनंद लीजिये।
आप विकसित करिये इस सात्विक बुद्धि को जो हानि लाभ देखे बिना भी कार्य कर सकती है। यही तो सर्वोच्च आनंद है। आइये अनुभव करें इस आनंद को हम सब अपने जीवन मे और लोगो तक भी इस आनंद का संचार करें।

Leave a comment

error: Content is protected !!